abhi.aadi

Just another weblog

42 Posts

60 comments

manjusharma


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

कुछ प्रशन

Posted On: 17 Aug, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

3 Comments

कल आज और कल

Posted On: 16 Aug, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

सफलता किसे ????????

Posted On: 13 Aug, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

3 Comments

सुविचार

Posted On: 12 Aug, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 2.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

1 Comment

नक़ल से असल अच्छा

Posted On: 12 Aug, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 2.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

नकल से असल अच्हा

Posted On: 13 Jul, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

माँ की याद

Posted On: 5 Jul, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

1 Comment

तकदीर

Posted On: 3 Jul, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

सामाजिक परिवेश

Posted On: 29 Apr, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

1 Comment

एक पल का महत्व

Posted On: 28 Apr, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

1 Comment

Page 4 of 5«12345»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा: nishamittal nishamittal

के द्वारा: manjusharma manjusharma

के द्वारा: manjusharma manjusharma

के द्वारा: manjusharma manjusharma

के द्वारा: manjusharma manjusharma

के द्वारा: manjusharma manjusharma

के द्वारा: manjusharma manjusharma

के द्वारा: manjusharma manjusharma

के द्वारा: nishamittal nishamittal

के द्वारा: manjusharma manjusharma

के द्वारा: nishamittal nishamittal

के द्वारा: nishamittal nishamittal

मंजू जी, क्या बात है आप कभी दो पंक्तियाँ लिखकर पोस्ट कर देती हैं कभी चार. ऐसा क्यों? अपने लेखन को थोड़ा विस्तार दें. आप अपने भावों को पूरी तरह से बयान कर पाएंगी, अपनी बात ठीक से रख पाएंगी. मै ये नहीं कह रहा हूँ की आप ने पल पल की महत्ता बता कर कोई गलत काम किया है बहुत अच्छी बात लिखी है आपने इंसान को हरपल का मोल समझना चाहिए. शायद इसीलिए तो सन्त कबीरदास जी ने कहा है. काल करे सो आज कर आज करे सो अब. पल में परलय होएगी बहुरि करेगो कब. और लगभग इसी बात को रेखा जी ने अपने ब्लॉग पर "अलादीन का चमत्कारी जिन्न" में भी कही है उसे पढ़कर देखिये कितना विस्तारित और सुन्दर ढंग से लिखा है. आपके छोटे छोटे प्रयास पर बधाई. आगे से विस्तारित आलेख लिखें बहुत प्रसन्नता होगी.शुभकामनाएं.

के द्वारा: akraktale akraktale

के द्वारा: sonam sonam




latest from jagran